Articles

Home Articles

21वीं सदी की असुरक्षित महिलाएं सबसे बड़ी चिंता

भारत में महिलाओं की स्थिति सदैव एक समान नहीं रही है. इसमें परिर्वतन होता रहा है. 19वीं सदी के मध्यकाल से लेकर इक्कीसवीं सदी...

न्याय की धीमी गति पर खड़े हुए सवाल

देश में कानून प्रक्रिया की धीमी एवं सुस्त गति एक ऐसी त्रासदी बनती जा रही है, जिसमें न्यायालयों में न्याय के बजाय तारीखों का...

अंतस की जागृति का संदेश देता है दीपावली का पर्व…

दीपावली का त्यौहार भारतीय संस्कृति का गौरव है, क्योंकि दीपावली रोशनी का पर्व है. दीया प्रकाश का प्रतीक है और तमस को दूर करता...

अच्छे दिनों के लिए प्रशासनिक सुधार जरूरी- डॉ. रिखबचंद जैन

सरकार का व्यवहार उदार न होकर बनिया बुद्धि सा लगता है. जो भी इंसेंटिव्स दिए जाते हैं, उनके साथ कठिन शर्तें लगाई जा रही...

दीपावली का वास्तविक अर्थ समझें- मुनि जयंत कुमार

भारतवर्ष में जितने भी पर्व हंै, उनमें दीपावली सर्वाधिक लोकप्रिय और जन-जन के मन में हर्ष-उल्लास पैदा करने वाला पर्व है. वैदिक प्रार्थना है,...

अब एक नयी सम्पूर्ण क्रांति हो…

आजादी के आंदोलन से हमें ऐसे बहुत से नेता मिले जिनके प्रयासों के कारण ही यह देश आज तक टिका हुआ है. और उसकी...

गणेशजी सात्विक एवं सार्वभौमिक देवता हैं

गणेश चतुर्थी पर विशेष भाद्रपद शुक्ल की चतुर्थी को सिद्धि विनायक भगवान गणेश का जन्म हुआ. गणेश के रूप में विष्णु शिव-पावर्ती के पुत्र के...

जैन धर्म का महापर्व है पर्यूषण- गणि राजेन्द्र विजय

पर्यूषण महापर्व पर विशेष दुनिया के प्राचीन धर्मों में अग्रणी है जैन धर्म। जैन संस्कृति में जितने भी पर्व व त्यौहार मनाए जाते हैं, लगभग...

कोविन्द के वक्तव्य में नये भारत का संकल्प

रामनाथ कोविंद ने जहां सरकार की प्राथमिकताओं का उजागर किया वहीं सरकार के लिये करणीय कार्यों की नसीहत भी दी है। सरकार का पहला...

श्रीकृष्ण सच्चे अर्थों में लोकनायक हैं

श्रीकृष्ण सच्चे अर्थों में लोकनायक हैं, जो अपनी दैवीय शक्तियों से द्वापर के आसमान पर छा नहीं जाते, बल्कि एक राहत भरे अहसास की...

6,847FansLike
820FollowersFollow
4,685SubscribersSubscribe

Recent Posts