Articles

Home Articles

21वीं सदी की असुरक्षित महिलाएं सबसे बड़ी चिंता

भारत में महिलाओं की स्थिति सदैव एक समान नहीं रही है. इसमें परिर्वतन होता रहा है. 19वीं सदी के मध्यकाल से लेकर इक्कीसवीं सदी...

अच्छे दिनों के लिए प्रशासनिक सुधार जरूरी- डॉ. रिखबचंद जैन

सरकार का व्यवहार उदार न होकर बनिया बुद्धि सा लगता है. जो भी इंसेंटिव्स दिए जाते हैं, उनके साथ कठिन शर्तें लगाई जा रही...

दीपावली का वास्तविक अर्थ समझें- मुनि जयंत कुमार

भारतवर्ष में जितने भी पर्व हंै, उनमें दीपावली सर्वाधिक लोकप्रिय और जन-जन के मन में हर्ष-उल्लास पैदा करने वाला पर्व है. वैदिक प्रार्थना है,...

अंतस की जागृति का संदेश देता है दीपावली का पर्व…

दीपावली का त्यौहार भारतीय संस्कृति का गौरव है, क्योंकि दीपावली रोशनी का पर्व है. दीया प्रकाश का प्रतीक है और तमस को दूर करता...

श्रीकृष्ण सच्चे अर्थों में लोकनायक हैं

श्रीकृष्ण सच्चे अर्थों में लोकनायक हैं, जो अपनी दैवीय शक्तियों से द्वापर के आसमान पर छा नहीं जाते, बल्कि एक राहत भरे अहसास की...

अब एक नयी सम्पूर्ण क्रांति हो…

आजादी के आंदोलन से हमें ऐसे बहुत से नेता मिले जिनके प्रयासों के कारण ही यह देश आज तक टिका हुआ है. और उसकी...

कोविन्द के वक्तव्य में नये भारत का संकल्प

रामनाथ कोविंद ने जहां सरकार की प्राथमिकताओं का उजागर किया वहीं सरकार के लिये करणीय कार्यों की नसीहत भी दी है। सरकार का पहला...

राज्यसभा की प्रासंगिकता पर सवाल क्यों?

आम आदमी पार्टी के राज्यसभा उम्मीदवारों को लेकर विवाद होना और सवाल उठना स्वाभाविक है. इस मसले ने एक बार फिर राज्यसभा की उपयोगिता...

शौक की सेल्फी का जानलेवा होना

विश्व की उभरती हुई गंभीर समस्याओं में प्रमुख है मोबाइल कैमरे के जरिए सेल्फी लेना. इन दिनों मोबाइल कैमरे के जरिए सेल्फी यानी अपनी...

होली कोरा पर्व ही नहीं, संस्कृति भी

भारत जैसे धर्मप्रधान और तीज-त्यौहारों वाले देश में होली अनूठा एवं अलौकिक त्यौहार है. यह लोक पर्व है, मनुष्यता का पर्व है, समाज का...





Block title

6,847FansLike
6,988SubscribersSubscribe

Recent Posts