Home Astro अंक और रोग तथा चिकित्सा 2

अंक और रोग तथा चिकित्सा 2

102
0
SHARE
गतांक का शेष…
अंक 6
6,15 और 24 तारीख को पैदा हुए व्यक्तियों को गले व नाक के रोगों के अतिरिक्त फेफड़ों के ऊपर के भाग में भी रोग होने की संभावना रहती है. वैसे इस अंक से संबंध रखने वाले जातक स्वस्थ व पुष्ट होते हैं.
चिकित्सा- गुलकंद का सेवन करें. सभी प्रकार की फलियां व सेब भी आपके लिए उपयोगी रहेंगे.
विशेष- मई, अक्तूबर और नवम्बर के महीने में स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखें.
अंक 7
7,16 और 25 तारीख को पैदा हुए व्यक्ति अन्य श्रेणी के व्यक्तियों की अपेक्षा अधिक चिंतित रहते हैं. जब तक ठीक रहते हैं, जितना मर्जी काम कर लेते हैं. परंतु जब परिस्थितियों के कारण चिंतित हो जाते हैं तो सोचने लगते हैं, कि सब चीजें गलत हैं और निराश हो जाते हैं.
चिकित्सा- फलों के रस, सलाद, खीरा, ककड़ी आदि उपयोगी हैं.
विशेष- जनवरी, फरवरी, जुलाई और अगस्त के महीने में स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान दें.
अंक 8
8, 17 और 26 तारीख को पैदा हुए व्यक्तियों को अन्य लोगों की तुलना में जिगर, पित्ताशय, आँतों तथा पेट संबंधित कष्ट होने की अधिक संभावनाएं रहती हंै. इन्हें सिरदर्द, रक्तरोग तथा गठिया आदि की बीमारी होने का भय रहता है.
चिकित्सा- पालक, गाजर, केला आदि का सेवन करें.
विशेष- दिसंबर, जनवरी, फरवरी और जुलाई महीने में स्वास्थ्य का ध्यान रखें.
अंक 9
9,18 और 27 तारीख को पैदा हुए व्यक्तियों को सभी तरह के बुखार, खसरा, चिकनपॉक्स के चकत्ते आदि रोग होने का भय रहता है.
चिकित्सा- अधिक पौष्टिक भोजन और मद्य-सेवन से बचें.
विशेष- अप्रैल, मई, अक्तूबर और नवम्बर के महीने में स्वास्थ्य परका विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए।
(आचार्य निधि, लेखिका वैदिक ज्योतिषी, वैदिक अंकशास्त्री व टैरो रीडर हैं)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here