Home State News केरल में आरएसएस कार्यकर्त्ताओं की हत्या को लेकर जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन

केरल में आरएसएस कार्यकर्त्ताओं की हत्या को लेकर जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन

111
0
SHARE
jantar mantar demonstration

वक्ताओं ने अपने विचार रखते हुए कहा कि केरल को विचारधारा और राजनैतिक हत्या के युद्धक्षेत्र के रूप में नहीं उभरना चाहिए, बल्कि राज्य को भारत के संविधान की भावना के अनुरूप उभरना चाहिए.


डेस्क.
नई दिल्ली. 09 अगस्त. केरल में एसएल राजेश की हत्या एवं उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने के लिए 9 अगस्त को जंतर-मंतर पर एक विरोध प्रदर्शन का आयोजन किया गया. स्वतंत्र बुद्धिजीवियों, शिक्षाविदों, कलाकारों और विभिन्न क्षेत्रों से आने वाले लोगों ने इस विरोध प्रदर्शन में भाग लिया. इस दौरान मौजूद वक्ताओं ने कहा कि राष्ट्रीय स्वयंसेव संघ के बस्ती कार्यवाह एस. एल. राजेश की बर्बरतापूर्ण हत्या की गई जो केरल सरकार द्वारा प्रतिरोधी और दमनकारी नीतियों का एक उदाहरण है. सीपीआई (एम) सरकार एक तानाशाही तरीके से व्यवहार कर रही है, जिससे अन्य विचारधाराओं के राजनीतिक कार्यकर्ताओं की जिंदगी और सम्पत्ति खतरे में है.
दिल्ली विश्वविद्यालय, आदिवासी समाज जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय, जामिया मिलिया इस्लामिया, इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय आदि के शैक्षणिक समूह से बड़ी संख्या में शिक्षकों ने विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लेते हुए कहा कि विभिन्न राजनैतिक विचारधाराओं को पनपने के लिए पर्याप्त जगह दी जानी चाहिए. यह देखा गया है, कि केरल में एलडीएफ शासन के पिछले 13 महीनों में 14 राजनीतिक हत्याएं हुई हैं. चार मारे गए व्यक्ति दलित समुदाय के थे. उन सभी लोगों को बर्बरतापूर्वक मार दिया गया जो एक विशेष विचारधारा के समर्थक थे, अर्थात राष्ट्रवाद की विचारधारा से संबंध रखते थे. इस तरह की बढ़ती असहिष्णुता गम्भीर चिंता का विषय है. वक्ताओं ने अपने विचार रखते हुए कहा कि केरल को विचारधारा और राजनैतिक हत्या के युद्धक्षेत्र के रूप में नहीं उभरना चाहिए, बल्कि राज्य को भारत के संविधान की भावना के अनुरूप उभरना चाहिए.
इस अवसर पर डॉ. सोनल मानसिंह, डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे, ज्योति शुक्ल, गिरीश चंद्र त्रिपाठी, सुदीप्तो सेन, अरविन्द श्रीवास्तव, डॉ. आईएम कपाही, डॉ. वी.एस. नेगी, प्रो.पी.सी झा, डॉ. एस. ओबेरॉय, कुलदीप अग्निहोत्री, डॉ. अजय भागी, सुशील पंडित आदि लोग सम्मलित थे. प्रो. राकेश सिन्हा इस प्रोटेस्ट के संयोजक थे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here